DDT News
मनोरंजन

सिद्धार्थ का दमदार एक्शन लेकिन कहानी के पक्ष पर कमजोर पड़ गया ‘मिशन’

देशभक्ति पर आधारित फिल्मों के लिए जनवरी का महीना आमतौर पर दर्शकों के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री की ओर से एक तोहफा होता है। शाहरुख खान की पठान, राजकुमार संतोषी की गांधी-गोडसे एक युद्ध जैसी फिल्में इस महीने सिनेमाघरों में दस्तक देने वाली हैं।

वहीं, इस जॉनर में बनी सिद्धार्थ मल्होत्रा ​​की फिल्म मिशन मजनू भी ओटीटी पर रिलीज हो रही है। सिद्धार्थ की ये फिल्म आपके अंदर की देशभक्ति को कितना छू सकती है, जानने के लिए पढ़ें फिल्म रिव्यू
कहानी
भारतीय जासूस अमनदीप अजीतपाल सिंह एक दर्जी के रूप में तारिक अली के रूप में पाकिस्तान के रावलपिंडी में अपने मिशन पर हैं। पंजाब के अमनदीप के पिता को देशद्रोही करार दिया गया है। जिसकी सजा उसे और उसके परिवार को भुगतनी पड़ रही है। इस बीच, अमनदीप और उसका परिवार अपने भारत के दाग को मिटाने के लिए कुछ भी करने को तैयार है।
अमनदीप को रोने का मौका दिया जाता है। अमनदीप मिशन मजनू के तहत पाकिस्तान में रहता है और वहां की परमाणु रणनीति से जुड़ी जानकारियां भारत को मुहैया कराता है। हालाँकि, अमनदीप को नसरीन से प्यार हो जाता है और वह उससे शादी कर लेती है।
पाकिस्तान में दोहरा जीवन जीते हुए, अमनदीप अपने मिशन के बारे में अधिक दृढ़ है और दो अन्य भारतीय रॉ एजेंटों से मिलता है। क्या अमनदीप अपने मिशन में कामयाब हो पाएगा? परमाणु परीक्षणों को रोकने में उनकी क्या भूमिका है? इन सभी सवालों को जानने के लिए फिल्म देखें।
दिशा
उनके निर्देशन के माध्यम से, शांत की बागची एक ऐसे गुमनाम नायक की कहानी पेश कर रही है, जिसे कभी कोई प्रेरणा नहीं मिली। सच्ची घटनाओं पर आधारित कहानी में उत्साह की कमी थी। दरअसल आज से पहले भी भारतीय एजेंटों पर कई कहानियां बन चुकी हैं।जिसे दर्शकों ने खूब सराहा है। बागचीनी मिशन मजनू भी कई प्रयासों का हिस्सा है। थ्रिलर्स की कमी देखकर निराशा होगी।
एक जासूसी फिल्म में रोमांच हमेशा प्रमुख घटक रहा है। फिल्म देखते समय जब तक खुद में जिज्ञासा नहीं जगी होगी, तब तक फिल्म से रिश्ता टूटता नजर आता है। कुल मिलाकर फिल्म की कहानी पुरानी लगती है। फिल्म का मजबूत बिंदु अभिनेताओं का शक्तिशाली प्रदर्शन और इसकी कार्रवाई है। हो सकता है कि फिल्म देखते समय आप इमोशनली कनेक्ट न हों लेकिन हां फिल्म आपको अंत में 1 घंटे तक बांधे रखेगी।
तकनीकी और संगीत
सिनेमाई तौर पर फिल्म खूबसूरत दिखती है। 1970 के दशक की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म के आप कायल हो जाएंगे। इसके एक्शन सीन रोमांचकारी हैं। फिल्म में सिद्धार्थ को जबरदस्त एक्शन करते देखा जा सकता है और यह उनके प्रशंसकों के लिए एक ट्रीट होगी। एडिटिंग टेबल पर फिल्म को फर्स्ट हाफ में क्रिस्प किया जा सकता था । फिल्म में संगीत आपको भावनात्मक रूप से जोड़ता है।
खासतौर पर आखिरी सीन में सोनू निगम द्वारा गाए गए देशभक्ति गीत को सुनकर आपमें देशभक्ति की भावना जाग उठेगी। बैकग्राउंड म्यूजिक का सही मात्रा में इस्तेमाल किया गया है। एक्शन हो या सस्पेंस, संगीत इसे जस्टिफाई करता है।
अभिनय
कहानी भले ही कमजोर हो लेकिन इस फिल्म की कास्टिंग परफेक्ट है। खासकर सिद्धार्थ मल्होत्रा ​​का काम बहुत अच्छा है। उन्होंने अपने किरदार के साथ एक्शन के साथ-साथ इमोशन को भी बखूबी ब्लेंड किया है। नेत्रहीन लड़की के रोल में रश्मिका मंदाना ने भी अपना काम बखूबी किया है।
शारिब हाशमी और कुमुद मिश्रा की जोड़ी भी इस फिल्म को एक मजबूत पक्ष देती है। उन्होंने नेचुरल एक्टिंग स्टार को और सहज बना दिया है। परमीत शेट्टी के हिस्से को कम से कम समय मिला है लेकिन वह अपना काम पूरी ईमानदारी से करते नजर आ रहे हैं।
Advertisement

Related posts

हनी सिंह ने क्यों कहा- ‘मैं रोज मरने की दुआ मांगता था

ddtnews

जादू टोने के शक में महिला की पिटाई: जेठ के साथ सास और ससुर पर लगाया पीटने का आरोप, जेठ गिरफ्तार

Admin

अनिल कपूर का आने वाला साल नाइट मैनेजर, एनिमल और फाइटर के साथ व्यस्त रहने वाला है

Admin

रेप के मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर किया ब्लैकमेल: महिला ने खेत मालिक से मांगे रुपए,  70  हजार रुपए देने के बाद भी नहीं रुकी रुपए की मांग तो दर्ज करवाया मुकदमा

Admin

बॉबी देओल बर्थडे: क्यों हो गए थे पिता धर्मेंद्र से खराब रिश्ते, क्या है असली नाम

Admin

बॉक्स ऑफिस पर ‘पठान’ की दहाड़: फिल्म का वर्ल्डवाइड कलेक्शन तीसरे दिन 300 करोड़ के पार, तोड़े कई रिकॉर्ड

Admin