DDT News
जालोरभीनमाल

भारत को विश्व की आर्थिक महाशक्ति बनाना है तो भीनमाल वालों से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है – स्वामी रामदेव

  • भीनमाल के लोगों ने पूरे देश में नए कीर्तिमान स्थापित किए, इससे ही भारत परम् वैभवशाली बनेगा
  • भीनमाल में नीलकंठ महादेव मंदिर प्रतिष्ठा कार्यक्रम में आये योगगुरु स्वामी रामदेव

जालोर. योगगुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि विश्व में भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाना है तो भीनमाल के लोगों से बहुत कुछ सीखना होगा, उन्होंने कहा कि भीनमाल के लोगों ने विश्वभर में नए कीर्तिमान स्थापित किए है। स्वामी रामदेव ने शुक्रवार को यह बात कही। वे गुरुवार को भीनमाल में नीलकंठ महादेव मंदिर की प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। स्वामी ने यहां 72 जिनालय समेत विभिन्न स्थानों का भ्रमण किया, रात्रि विश्राम के बाद सुबह योग प्राणायाम किया। शुक्रवार सुबह वापस रवाना हुए।

स दौरान विशेष बातचीत में स्वामी रामदेव ने कहा कि भीनमाल बहुत ही संस्कृतिक व ऐतिहासिक नगरी है। कवि माघ की धरती है, नागभट्ट जिसका साम्राज्य हजारों किलोमीटर तक फैला था, जिसकी राजधानी भीनमाल रही है। उन्होंने कहा कि अब भीनमाल में दो बड़े प्रतिष्ठान हो गए है, एक जिनालय और एक शिवालय।

Advertisement
विज्ञापन

भीनमाल के लोगों ने पूरे देश में जो समृद्धि के नए कीर्तिमान स्थापित किये है, वो अन्य के लिए प्रेरणास्रोत है।

योग व आयुर्वेद का डबल डोज न होता तो कोरोना में लाशें उठाने वाला न मिलता

डीडीटी से योगगुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि कोरोना जैसी महामारी में योग व आयुर्वेद के डबल डोज के कारण ही देश में बचाव हो सका है, अन्यथा लाशें उठाने वाला भी नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि देवतुल्य प्रधानमंत्री का धन्यवाद है, वहीं सनातन संस्कृति का धन्यवाद है कि पूर्वजों से मिली है, जिससे हम सभी बाहर के रोगों से लड़ सकते है।

Advertisement
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि योग एक दिन बात नहीं है, योग हमारी दिनचर्या का हिस्सा है, शिक्षा, चिकित्सा, मिलिट्री आदि में अनिवार्य तत्व के रूप में स्वीकार्यता मिली है, योग से स्वास्थ्य के साथ साथ सभी प्रकार के हमारे जीवन में शुभ के द्वार उद्घाटित हुए है।

राहुल की यात्रा का सवाल टाल गए रामदेव

कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल के दौरान स्वामी रामदेव ने देशभर में यात्रा निकाली थी, ठीक इसी प्रकार की यात्रा वर्तमान में राहुल गांधी देश में निकाल रहे है, इससे बदलाव कितना सम्भव है इस सवाल के जवाब को रामदेव टाल गए और जवाब देने से बचे। स्वामी रामदेव गुरुवार को भीनमाल आये थे, यहां 72 जिनालय, वराहश्याह मंदिर के दर्शन भी किये। सुबह योग प्राणायाम भी किये। उसके बाद वापस लौट गए। आपको बता दें कि राव मुफतसिंह परिवार की ओर से भीनमाल में 1400 साल पुराने नीलकंठ महादेव मंदिर का जीर्णोद्धार करवाने के बाद 11 दिवसीय प्रतिष्ठा कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। जिसमें कई हस्तियां शामिल हो रही है।

Advertisement

Related posts

पीर शांतिनाथ महाराज के तृतीय भण्डारा महोत्सव के पांचवे दिन भक्तों का उमड़ा सैलाब, नाथजी के जयकारों से गूंजा कणियागिरी पर्वत

ddtnews

भीनमाल में शेखावत बोले- मुख्यमंत्री गहलोत सार्वजनिक माफी मांग ले, अन्यथा उनकी भी उनके लीडर जैसी गति होगी

ddtnews

इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना पर संकट के बादल, नई सरकार ने मजदूरों को नहीं दिया पैसा

ddtnews

सीईओ ने किया जिला अस्पताल का निरीक्षण, व्यवस्थाओं में कौताही न बरतने के निर्देश

ddtnews

बी.लाल हॉस्पिटल में 50 वर्षीय महिला की पित की थैली से 100 कंकड़नुमा पथरी निकाली

ddtnews

उदयपुर में कन्हैयालाल के परिवार को जालोर भाजयुमो ने दी आर्थिक सहायता

ddtnews

Leave a Comment