DDT News
राजनीति

बिहार के शिक्षा मंत्री के विवादित बोल, भड़क उठे संत ने कह दी ऐसी बात कि…

बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर की धार्मिक पुस्तक रामचरितमानस पर की गई टिप्पणी से बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। उनके बयान पर पलटवार करते हुए अयोध्या के संत जगद्गुरु परमहंस आचार्य ने मंत्री को बर्खास्त करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि बिहार के शिक्षा मंत्री ने जिस तरह से रामचरितमानस को नफरत फैलाने वाला ग्रंथ करार दिया है, उससे पूरा देश आहत है, यह सभी सनातनी का अपमान है और मैं इस बयान पर कानूनी कार्रवाई की मांग करता हूं कि उन्हें एक सप्ताह के अंदर मंत्री पद से बर्खास्त किया जाना चाहिए।

अयोध्या के संत ने कहा कि उन्हें माफी मांगनी चाहिए, अगर ऐसा नहीं होता है तो मैं बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर की जीभ काटने वाले को 10 करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा कर रहा हूं। उन्होंने कहा, “इस तरह की टिप्पणियों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। रामचरितमानस जोड़ने वाली किताब है, तोड़ने वाली नहीं। रामचरितमानस मानवता को बढ़ावा देने वाली किताब है। यह भारतीय संस्कृति का स्वरूप है, यह हमारे देश का गौरव है। रामचरितमानस पर इस तरह की टिप्पणियों को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।’

Advertisement

नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी के 15वें दीक्षांत समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने रामचरितमानस और मनुस्मृति को समाज में विभाजनकारी ग्रंथ करार दिया। बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने बुधवार को कहा कि रामायण पर आधारित महाकाव्य हिंदू ग्रंथ रामचरितमानस समाज में नफरत फैला रहा है। उनके इस दावे के बाद विवाद खड़ा हो गया है।

उन्होंने कहा, “मनुस्मृति को क्यों जलाया गया, क्योंकि इसमें एक बड़े वर्ग के खिलाफ कई गालियाँ थी। रामचरितमानस का विरोध क्यों किया गया? और किस हिस्से का विरोध किया गया? निचली जातियों को शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति नहीं थी और रामचरितमानस में कहा गया है कि निचली जातियां शिक्षा के बाद उतने ही जहरीले हो जाते हैं, जितने दूध पीकर सांप हो जाते हैं।”

Advertisement

बिहार के शिक्षा मंत्री ने कहा है, “मनुस्मृति और रामचरितमानस ऐसी पुस्तकें हैं जो समाज में नफरत फैलाती हैं, क्योंकि ये समाज में दलितों-पिछड़ों और महिलाओं को शिक्षा प्राप्त करने से रोकती हैं। मनुस्मृति, रामचरितमानस, गुरु गोलवलकर के विचारों का संग्रह.. … ये किताबें वो किताबें हैं जो नफरत फैलाती हैं। देश नफरत से महान नहीं बनेगा, देश प्यार से महान बनेगा।”

Advertisement

Related posts

सुप्रीम कोर्ट से राहुल गांधी को राहत मिलने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जालोर में मनाई खुशियां

ddtnews

सांवलिया धाम मंदिर में 13 जून को होगा आहोर ब्लॉक कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मान समारोह

ddtnews

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया से मिले सांसद पटेल, जालोर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की मांग

ddtnews

राज्य के श्रम मंत्री सुखराम विश्नोई एवं जन अभियोग निराकरण समिति के अध्यक्ष पुखराज पाराशर ने सांचौर में ई.आर. प्रोजेक्ट के कायों का अवलोकन किया

ddtnews

सांचौर शहर में एलिवेटेड हाइवे की स्वीकृति जारी, 23 जनवरी को खुलेगी निविदा

ddtnews

Leave a Comment