DDT News
हेल्थ

जानिए कान साफ ​​करने का सही तरीका: नहीं तो फट सकता है कान का पर्दा

कान के परदे के पीछे भी एक आंतरिक प्रणाली होती है

प्रत्येक मनुष्य के कान मैल से भर जाते हैं और वह समय-समय पर अपने कानों की सफाई करता रहता है। लेकिन ईयरवैक्स भरने का कारण बाहरी नहीं होता है। अर्थात यह गंदगी बाहरी प्रदूषण या धूल के कणों से नहीं बनती है। यह मेल एक व्यक्ति के आंतरिक आनुवंशिकी से बना है। बाहरी कान की संरचना एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है, लेकिन आंतरिक संरचना लगभग समान होती है। कान के नली जैसे भाग को कर्ण नलिका कहते हैं। इसके बाद ईयरड्रम आता है। कान का मैल ट्यूब और झिल्ली के बीच जमा हो जाता है, जिसे विज्ञान की भाषा में ईयर वैक्स कहते हैं।यह कान का मैल चमकदार या सूखा भी होता है।
कान का मैल कहाँ से आता है?
मानव शरीर के अंदर पसीने की ग्रंथियां होती हैं। इस ग्रंथि के जरिए हमारे शरीर से पसीना निकलता रहता है जिसे साफ करने के लिए हम नहाते हैं। इसी तरह हमारे कानों में सिरुमिनस ग्रंथियां होती हैं। इस सिरुमिनस ग्रंथि से सीरम निकलता है जिसे ईयर वैक्स कहा जाता है। तो यह ईयरवैक्स किसी बाहरी कारक धूल-कण आदि के कारण बंद नहीं होता है।
कुछ लोगों को अपने कानों को बार-बार साफ करने की आवश्यकता होती है, जबकि दूसरों को अपने कानों की सफाई के बिना महीनों या साल भी लग सकते हैं। तो इसके पीछे कोई बाहरी कारण भी नहीं है। इसके पीछे का कारण आपका जेनेटिक्स है। आपके कान में गंदगी की मात्रा आपके जेनेटिक सिस्टम के हिसाब से तय होगी। हैरान करने वाली बात यह है कि कान का मैल भी एक रंग का नहीं होता है। समान आनुवंशिकी वाला व्यक्ति उस रंग का ईयरवैक्स पैदा करता है।
कान का मैल कैसे साफ करें?
ज्यादातर मामलों में जब कोई व्यक्ति नहाता है तो कान का मैल पानी की मदद से अपने आप धुल जाता है लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आपको कानों को अलग से साफ करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। कई लोग अपने कानों को उंगलियों, चाबियों या पिन से साफ करते हैं और कुछ लोग कॉटन बड्स का भी इस्तेमाल करते हैं, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इन सभी चीजों से ईयरवैक्स हटाने से कानों को गंभीर नुकसान हो सकता है। इसलिए कान की सफाई के लिए आपके नजदीकी ईएनटी डॉक्टर को दूरबीन या सीरिंज से ईयरवैक्स को निकालना चाहिए। अगर हम चाबी या कॉटन बड्स से कान साफ ​​करते हैं तो कान का पर्दा फटने का भी खतरा रहता है। और अगर ईयरवैक्स सूखा है, तो यह ईयरड्रम और कैनाल से चिपक सकता है, जिससे आपके लिए सुनना मुश्किल हो जाता है।
Advertisement

Related posts

भीनमाल हॉस्पिटल में ढाई किलो गांठ निकालकर मरीज को दी राहत

ddtnews

एंटी बायोटिक्स का इस्तेमाल कब करना चाहिए। जानिए इस आर्टिकल में।

Admin

उपनिदेशक स्वास्थ्य सेवाएं सुनील बिष्ट पहुंचे सरत, 640 लोगों का लिया रक्त नमूना

ddtnews

Weight Loss: मोटापे की समस्या से निजात पाने का आयुर्वेदिक उपाय ऐसा है!

ddtnews

बकाया मानदेय दिलाने की मांग को लेकर सीएचओ ने किया प्रदर्शन

ddtnews

अरबन पीएचसी लालपोल राष्ट्रीय क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेशन में रही प्रथम

ddtnews

Leave a Comment