DDT News
हेल्थ

शीतकालीन योग: इस आसन को करने से आपको सर्दी कम लगेगी

सर्दियों में योग करने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह आपके श्वसन तंत्र को बढ़ाने और मजबूत करने में मदद करता है। योग विशेषज्ञों ने सर्दियों में होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने के लिए कुछ योग आसनों का जिक्र किया है।

सर्दी के ठंडे दिन (Cold Days) पर्याप्त सांस लेने की प्रक्रिया को बाधित करते हैं। बहुत जल्द सर्दी, फ्लू, खांसी की समस्या हो जाती है। इससे रात को ठीक से नींद नहीं आ पाती है। श्वास ठीक नहीं है। इसलिए ठंड के दिनों में ठंड, नाक, गले और छाती को सिकोड़ देती है। इसके अलावा कफ जम जाता है। बलगम के जमा होने से शरीर में खांसी-जुकाम, सीने में जकड़न और कई अन्य बीमारियां हो जाती हैं। इस बीमारी से निजात पाने के लिए कुछ योगासन करना बहुत फायदेमंद होता है। सर्दी, सांस की तकलीफ से राहत दिलाता है। सेहत ठीक रखता है।
सर्दी से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने के लिए करें योग
योग विशेषज्ञों ने सर्दियों में होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने के लिए कुछ योग आसनों का जिक्र किया है। हालांकि कुछ लोगों ने इस योग को न करने की सलाह दी है। उन्होंने योग गति के फायदे, तरीके और सावधानियों के बारे में बताया। आइए यहां उनके बारे में देखते हैं।
ठंड में योग करने के क्या फायदे हैं?

Advertisement
सर्दियों में योग करने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह आपके श्वसन तंत्र को बढ़ाने और मजबूत करने में मदद करता है।
ठंड के मौसम में यह योग करेंगे तो मांसपेशियों में दर्द नहीं होगा। ब्लड सर्कुलेशन सही हो जाता है। अगर आप योग करेंगे तो आपकी त्वचा में निखार आएगा। इनके अलावा ठंड के मौसम में योग करने से कई फायदे मिलते हैं।
योग गति के लाभ
सर्दी-खांसी की समस्या दूर होती है। एलर्जिक राइनाइटिस से राहत पाएं। साइनस की समस्या दूर होगी। बंद नाक साफ हो जाती है। गले की खराश कम होती है। सीने की जकड़न कम होगी।
योग गति कैसे करें?
योगा एक्सपर्ट ने योग गति करने के स्टेप्स के बारे में सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है.
सबसे पहले पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। फिर दोनों हाथों से टाइट मुट्ठी बना लें। फिर दोनों मुट्ठियों को कंधों के नीचे छाती के सामने लाएं। अपनी आंखें बंद करें और अपना सिर आगे रखें।
इसके बाद मुट्ठी को स्थिर रखें। अपनी कोहनियों को पंख की तरह उड़ते हुए रखें। सांस लेने पर ध्यान दें। योग विशेषज्ञों का कहना है कि योगासन के दौरान पूरा ध्यान सांस लेने पर होना चाहिए।
फिर कोहनियों को ऊपर उठाएं और तेजी से सांस लें। कोहनियों को नीचे लाते हुए तेजी से श्वास लें। इसके बाद गति पर नियंत्रण रखें।
विशेषज्ञों का कहना है कि जब आप योग गति का अभ्यास करते हैं तो गति बहुत महत्वपूर्ण होती है । आपको बहुत तेज और बहुत धीमी गति से अभ्यास नहीं करना चाहिए। इसके बजाय गति को नियंत्रित करना सीखें, इस योग के कई स्वास्थ्य लाभ हैं।
योग गति योग किसे नहीं करना चाहिए?
किसे योग गति का अभ्यास नहीं करना चाहिए, इस पर योग विशेषज्ञों ने सलाह दी है। इसके अनुसार गर्भवती महिलाओं, हाई बीपी की बीमारी वाले लोगों, लो बीपी की समस्या वाले लोगों को इससे बचना चाहिए।

Related posts

विश्व तपेदिक (टीबी) दिवस (24 मार्च) पर विशेष : उपचार और जागरूकता के बावजूद टीबी मरीजों के बढ़ते आंकड़े

ddtnews

सुपर हेल्दी फूड है ‘दही’, परफेक्ट फिगर के साथ सेहत को भी मिलेंगे फायदा

ddtnews

एपेक्स हॉस्पिटल एण्ड ऑर्थोपेडिक सेन्टर जालौर की चिकित्सकीय टीम द्वारा एक ही दिन में दो मरीजों के कुल्हा प्रत्यारोपण का किया ऑपरेशन

ddtnews

योग दिवस पर तखतगढ़ के युवाचार्य अभयदास महाराज बने स्विटजरलैण्ड के संयुक्त राष्ट्र संघ कार्यालय में विशिष्ट अतिथि

ddtnews

गर्म दूध में खजूर मिलाकर करें सेवन, दूर होंगी ये बीमारियां

ddtnews

Benefits of Swimming: गर्भवती महिलाओं के लिए स्विमिंग है बेस्‍ट, फायदे हैं अनेक!

Admin

Leave a Comment