DDT News
हेल्थ

Weight Loss: मोटापे की समस्या से निजात पाने का आयुर्वेदिक उपाय ऐसा है!

मोटापे से कई बीमारियां होती हैं। ऐसी बीमारी से निजात पाने के लिए सबसे पहले वजन कम करना चाहिए। आयुर्वेद ने इसके लिए कुछ उपाय बताए हैं। यह स्वास्थ्य समस्याओं और वजन घटाने में मददगार है।

अगर आप वजन घटाने के लिए कई चीजों का पालन करते हैं और बिना परिणाम के बोर हो जाते हैं, तो आप आयुर्वेद उपाय आजमा सकते हैं। वजन कम करने के लिए आपको कुछ समय देने की जरूरत है। क्‍योंकि आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट के अनुसार वजन घटाने के लिए आयुर्वेद बिल्‍कुल मददगार है। लेकिन वे कहते हैं कि इसमें समय लगेगा। यहां आयुर्वेदिक विशेषज्ञों ने मोटापे की समस्या से निजात पाने के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपाय बताए हैं। खराब खान-पान और गतिहीन जीवन शैली के कारण मोटापा और भी बढ़ जाता है। इसलिए जितना हो सके एक्टिव रहने की आदत डालें।
मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने का आयुर्वेदिक उपाय
मोटापे से कई बीमारियां होती हैं। ऐसी बीमारी से निजात पाने के लिए सबसे पहले वजन कम करना चाहिए। आयुर्वेद ने इसके लिए कुछ उपाय बताए हैं। यह स्वास्थ्य समस्याओं और वजन घटाने में मददगार है।
कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. नीतू का कहना है कि कई तरह की आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां मोटापा कम करने में कारगर हैं।
आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का पाउडर या जूस के रूप में सेवन करें
डॉ. नीतू कहती हैं कि आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों को पाउडर या जूस के रूप में सेवन करने से मोटापा कम किया जा सकता है। अदरक, त्रिफला, चित्रक, गुडुची, विदंग, गुग्गुलु जैसी कई आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां मोटापा कम करने में कारगर हैं।
अगर पाउडर या जूस के रूप में सेवन किया जाए तो ये शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देंगे। शहद मोटापे की समस्या को दूर करता है।
वजन घटाने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां इस प्रकार हैं
अदरक
जैसा कि चरक संहिता में बताया गया है, आयुर्वेदिक जड़ी बूटी अदरक के उपयोग से पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है। मेटाबॉलिज्म में सुधार करता है। यह फ्री रेडिकल्स को खत्म करता है। इसमें फाइटोकेमिकल जिंजरोल होता है, जिसके सेवन से मोटापा कम होता है। सुबह खाली पेट दो चम्मच अदरक का सेवन करें।
त्रिफला
त्रिफला आयुर्वेद में सबसे महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों में से एक है। आमलकी, विभीतकी और हरीतकी समान अनुपात में मौजूद हैं। गैलिक एसिड, चेबुलिक एसिड और चेबुलिनिक एसिड के अलावा इसमें कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, खनिज और आहार फाइबर शामिल हैं। आधा चम्मच त्रिफला चूर्ण रोज सुबह और शाम खाली पेट सेवन करें।
चित्रमय
वात, पित्त और कफ तीनों दोषों को दूर करने में चित्रक सहायक है। इसके सेवन से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है। चित्रक की छाल का काढ़ा बनाकर प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करें।
गिलोय या गुडुची
गिलोय में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है । और हर तरह के चर्म रोग को दूर करता है। गिलोय मल त्याग में सुधार करती है। वजन कम करता है। एलोवेरा और शिलाजीत के साथ लेने से पेट की चर्बी कम होती है। मोटापा कम करता है।
वजन घटाने के लिए आधा कप गिलोय के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पिएं। मधुमेह रोगियों को शहद नहीं मिलाना चाहिए।
विदॉन्ग
विदंग कफ और वात दोष को दूर करता है। कब्ज, मोटापा, पेट फूलने की समस्या को दूर करता है। गुनगुने पानी में आधा चम्मच विदंग पाउडर मिलाकर भोजन से पहले इसका सेवन करें।
नगरमोटा
नागरामोटा में क्लोरोजेनिक एसिड होता है। इसमें जलनरोधी गुण होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट फ्लेवोनॉयड होता है। नागरामोटा वजन बढ़ने से रोकता है। इसमें प्रकंद यौगिक होते हैं। नागरामोटा राइजोम के रस का रोजाना सेवन करें। यह वजन घटाने में मदद करता है।
गुग्गुल
गुग्गुल वात, पित्त और कफ दोष को दूर करता है। शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है। वजन कम करता है। आधा चम्मच गुग्गुल का चूर्ण गुनगुने पानी में लें
Advertisement

Related posts

गांव में बदलती स्वास्थ्य सेवाएं

ddtnews

Brain Health: अगर आप ऐसा कर सकते हैं तो इसका मतलब है कि आपका दिमाग सुपर है!

ddtnews

थैलेसीमिया जागरूकता अभियान के तहत जालोर में रोटरी क्लब ने 23 यूनिट रक्तदान किया

ddtnews

रैन बसेरा में आश्रित व्यक्तियों के एचआईवी की जांच की

ddtnews

अधिकारियों ने सोनोग्राफी केंद्रों का निरीक्षण किया

ddtnews

देश में कोरोना की रफ्तार तेज, हर दिन मामलों में 40 फीसदी का उछाल, भारत को लेकर WHO का बड़ा अलर्ट

ddtnews

Leave a Comment