DDT News
जालोरराजनीतिसामाजिक गतिविधि

जालोर में बीसूका बैठक में चंद्रभान बोले – मैं जोधपुर से आया हूँ, पूरे राजस्थान में इतनी खराब रोड नहीं देखी, पाराशर जी आप क्या कर रहे हो ??

  • बीसूका उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने जालोर में ली बैठक

जालोर. राज्य के बीस सूत्री कार्यक्रम एवं क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने सोमवार को जालौर जिला कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक ली। जिसमें बीसूका कार्यक्रम व फ्लैगशिप योजनाओं के बारे में अधिकारियों से समीक्षा कर प्रगति जानी। इस दौरान सड़क के विषय पर बात करते हुए डॉ चंद्रभान ने कहा कि मैं जोधपुर से आया हूं पूरे राजस्थान में इस प्रकार की खराब सड़क नहीं देखी है। उन्होंने रोहिट-आहोर सड़क का हवाला देते हुए कहा कि जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत किसी भी कार्य के लिए कहते हैं कि पुखराज जी आप देखो, लेकिन उनके इलाके में इस प्रकार की रोड की हालत ऐसी है यह समझ से परे है। उन्होंने अधिकारियों को आगामी 6 महीने में इस रोड को ठीक करने के निर्देश दिए।

अधिकारियों ने बताया कि इस रोड का मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। हालांकि इस पर लगी टोल वसूली बंद हो चुकी है। इस दौरान बैठक में मौजूद भीनमाल के पूर्व विधायक डॉ समरजीतसिंह ने भी कहा कि आहोर रोहिट रोड को लेकर सरकार की खूब बदनामी हो रही है। हमें इसमें सुधार करने की आवश्यकता है। डॉ चंद्रभान ने बीसूका की क्रियान्वित व फ्लैगशिप योजनाओं की प्रगति जानी। उन्होंने कहा सरकार कि महत्वपूर्ण अंग्रेजी माध्यम स्कूल व इंदिरा रसोई को लेकर बेहतर काम होने जरूरी है। इसकी क्वालिटी पर विशेष ध्यान रखना होगा। इसके लिए अधिकारियों को भी निर्देशित किया।

Advertisement

बैठक में राज्य जन अभाव अभियोग निराकरण समिति के अध्यक्ष पुखराज पाराशर, जिला कलेक्टर निशान्त जैन, एसपी हर्षवर्धन अग्रवाला, पूर्व विधायक डॉ समरजीतसिंह, रतन देवासी, रामलाल मेघवाल, सवाराम पटेल, मंजू मेघवाल, उमसिंह चांदराई, नैनसिंह राजपुरोहित, प्रेमाराम चौधरी, डॉ शमशेर अली, हीरालाल बोहरा, शहजाद अली, नरेश सेठ समेत जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

चंद्रभान ने भैरोसिंह की अंत्योदय योजना की तारीफ की

डॉ चंद्रभान ने कहा कि 20 सूत्री कार्यक्रम पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने लाया था, देश में गरीबी कम करने में बीस सूत्री कार्यक्रम की अहम भूमिका रही है। उन्होंने स्वीकार किया कि गरीबी दो प्रकार की होती है अत्यंत गरीबी व कम गरीबी। बीसूका के आने के बाद हालांकि पूर्ण रूप से गरीबी कम नहीं हुई है, लेकिन फिर भी काफी कम हुई है। उन्होंने कहा कि कार्यों में कोई भी हो अच्छे कार्यों की हमेशा प्रशंसा होनी चाहिए। चंद्रभान ने कहा भारत में मनरेगा जैसी योजना के चलते हम लोग अत्यंत गरीबी से काफी हद तक बाहर आ गए हैं। उन्होंने बीसूका को मजबूत बनाने की आवश्यकता जताई। उन्होंने यह भी कहा कि देश में ज्यादा गरीबी नहीं है, लेकिन गरीब और अमीर के बीच का अंतर बढ़ रहा है इसे रोकने की जरूरत है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि बीस सूत्री कार्यक्रम की योजनाएं भले ही केंद्र सरकार की हो, लेकिन इसका जिम्मेदारी पूर्ण निर्वहन करना राज्य का है, इसलिए हमें इन योजनाओं को लेकर सजग रहने की जरूरत है। उन्होंने जालौर जिले में जल जीवन मिशन में कमजोर होने पर अधिकारियों को कहा कि इसकी प्रगति करने में कोताही नहीं बरतें। बीसूका उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने कहा कि भैरोसिंह की अंत्योदय योजना भी प्रदेश में बेहतर थी, योजनाओं का उचित क्रियान्वयन ही गरीब की असली सेवा है।

मनरेगा में कौताही बरती तो मोदीजी बजट नहीं देंगे

मनरेगा पर उन्होंने चर्चा करते हुए कहा कि मनरेगा में जालौर जिले में व्यवस्थित तरीके से क्रियान्विति नहीं हुई है। मजदूरी के तौर पर लोगों को ₹194 अभी हर दिन औसत मजदूरी मिल रही है, लेकिन लक्ष्यपूर्ति नहीं हो रही है 45 हजार के लक्ष्य के मुकाबले केवल 4156 मजदूर ही 100 मानव दिवस पूरा कर पाए है। उन्होंने कहा कि सरकार 125 दिन मानव दिवस रोजगार करने का विचार कर रही है, लेकिन यहां पर लक्ष्य पूर्ति नहीं होने के कारण नुकसान हो रहा है। उन्होंने चिंता जताई कि अगर इसी प्रकार के हालत रहे तो मोदीजी बजट कम कर देंगे, इसलिए रोजगार के अवसर को बढ़ाया जाए। उन्होंने आवश्यकता जताते हुए कहा कि जालौर की जनता को रोजगार की बेहतर बेहद जरूरत है, अधिकारी इसकी क्रियान्वित को लेकर तत्पर रहें।

Advertisement
संस्थागत प्रसव को दें बढ़ावा

डॉ चंद्रभान ने चिकित्सा सुविधाओं पर बातचीत करते हुए प्रगति जानी, जिसमें बताया गया कि जिले में 75 फ़ीसदी संस्थागत प्रसव होते हैं। इस पर उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में जन जागरूकता की जरूरत है संस्थागत प्रसव को लेकर जागरूकता फैलाएं। आंगनवाड़ी की स्थिति को जालौर जिले में कमजोर मानते हुए उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि गुणवत्तापूर्ण खाद्य सामग्री आंगनवाड़ी केंद्रों पर मिल रही है, उचित मॉनिटरिंग जरूरी है।महिला बाल विकास विभाग के उपनिदेशक ने इस मामले में कहा कि जिले में उन्होंने एक सर्वे करवाया था, जिसमें 3841 बच्चे कुपोषित व 461 बच्चे अतिकुपोषित मिले थे। जिनकी नियमित मॉनिटरिंग कर आहार में संतुलन पैदा किया गया। ऐसे में काफी सुधार हुआ है,वर्तमान में 79 अति कुपोषित बच्चे हैं।

कार्यकर्ताओं ने बीसूका उपाध्यक्ष का किया स्वागत

सुबह बीसूका उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान सर्किट हाउस पहुंचे। जहां से बाद में विजय पैराडाइज होटल पहुंचे, वहां कार्यकर्ताओ ने उनका स्वागत किया। साथ ही उन्होंने कार्यकर्ताओं के साथ भोजन किया। इस अवसर पर जुल्फिकार अली भुट्टो, वीरेंद्र जोशी, सेवादल अध्यक्ष पुखराज विश्नोई, महिला जिलाध्यक्ष शोभा सुंदेशा, सरोज चौधरी, लीला राजपुरोहित, पार्षद बसन्त सुथार, लक्ष्मणसिंह सांखला, भरत सुथार, प्रेमसिंह मीठड़ी, नारायण सोलंकी, मांगीलाल गर्ग, सवाईसिंह चौराउ, गोपाल देवासी, कैलाश शर्मा, देवाराम सांखला, नत्थू खान समेत कार्यकर्ता मौजूद थे।

Advertisement
चर्चा का विषय रही रतन देवासी की गुफ्तगू

होटल में दिन को भोजन करने के बाद बीसूका उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान व पूर्व उप मुख्य सचेतक रतन देवासी की गार्डन में वॉकिंग के बहाने की गई गुफ्तगू चर्चा का विषय रही। करीब 10 मिनट तक वॉकिंग करते हुए उन्होंने गार्डन में चक्कर लगाए और राजनीतिक चर्चा की। चंद्रभान इस दौरान देवासी से गुजरात चुनाव पर भी चर्चा करते दिखे, देवासी से चंद्रभान ने कहा कि गुजरात में हम अर्थात कांग्रेस 45 सीट जीतने के अनुमान में थी, लेकिन 17 पर कैसे अटक गई, समझ से परे है।

Advertisement

Related posts

अनूठी पहल… जालोर भाजपा जिलाध्यक्ष श्रवणसिंह राव के पुत्र के विवाह निमित्त गौमय कागज से बनाई पत्रिका

ddtnews

डेढ़ किलो अफीम दूध के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार

ddtnews

सुराणा प्रकरण : अठावले बोले – आरोपी को फांसी हो, प्रदेश में लगे राष्ट्रपति शासन, बेनीवाल ने सीबीआई जांच की मांग रखी

ddtnews

सांगाणा में प्याज-अरंडी पौधों के बीच उगा दिए डोडा, पुलिस ने किया गिरफ्तार

ddtnews

मुख्य सचेतक गर्ग बोले – कांग्रेस सरकार खजाना खाली कर गई, तिजोरी में चूहे दौड़ रहे है, फिर भी हमें काम का माहौल बनाना होगा

ddtnews

सरदार बूटासिंह के बाद अस्थिर हुई कांग्रेस ने एक बार फिर चेहरा बदलकर वैभव गहलोत को जालोर लोकसभा सीट पर मैदान में उतारा

ddtnews

Leave a Comment