DDT News
अपराधजालोरराजनीति

सम्बन्ध विच्छेद के सवा साल बाद ताला तोड़कर घर में घुसने का जालोर की पूर्व विधायक अमृता मेघवाल ने किया प्रयास, परस्पर मामला दर्ज

  • धक्का मारने का सीसीटीवी फुटेज वायरल
  • अमृता मेघवाल भी हुई अस्पताल में भर्ती

दिलीप डूडी, जालोर. जालोर की पूर्व विधायक अमृता मेघवाल ने अपने पति एडवोकेट बाबूलाल मेघवाल से वैवाहिक सम्बंध विच्छेद (तलाक) होने के करीब सवा साल बाद रविवार शाम को जालोर में ताला तोड़कर बंद घर में घुसने का प्रयास किया, इस दौरान वहां भाई के घर मौजूद अमृता मेघवाल के काकाई ससुर शिवलाल व ससुर हेमाराम ने मना किया तो आपस में कहासुनी भी हुई। इसका एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें अमृता मेघवाल किसी बुजुर्ग को धक्का मारकर गाड़ी में बैठ रही है। घटना के वक्त बाबूलाल मेघवाल घर पर नहीं थे। दोनों पक्षों की ओर से परस्पर मामला दर्ज करवाया गया है। अमृता मेघवाल रात को ही अस्पताल में भर्ती हो गई थीं और उन्होंने ससुराल पक्ष पर भी कई आरोप लगाए हैं। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

टिकट कटने के बाद हुआ पारिवारिक विवाद, बढ़ी दूरियां

आपको बता दें कि जालोर जिले के नोरवा हाल रामदेव कॉलोनी जालोर निवासी एडवोकेट बाबूलाल मेघवाल पुत्र हेमाराम मेघवाल का 21 अप्रैल 2008 को चाणोद (पाली) निवासी अमृता मेघवाल से हिन्दू रीति रिवाज से विवाह संपन्न हुआ था। अमृता जब ससुराल आईं तब से राजनीति में रुचि थी, इस कारण एक बार जिला परिषद सदस्य भी निर्वाचित हुई। बाबूलाल मेघवाल ने भी पत्नी का साथ दिया और पार्टी में पैठ बनाते हुए वर्ष 2013 में विधानसभा चुनाव में भाजपा से अमृता मेघवाल के लिए टिकट की मांग की, पार्टी ने विश्वास जताया और अमृता मेघवाल ने जालोर एससी आरक्षित सीट पर रेकॉर्ड तोड़ मतों से जीत हासिल की। सरकार भी भाजपा की थी, इस कारण पांच साल विधायकी जमकर की, अमृता के साथ साथ बाबूलाल भी राजनीति में पूरे सक्रिय रहे, इसी कारण वर्ष 2018 में पार्टी में इनका विरोध हुआ और अमृता मेघवाल का टिकट काटकर जोगेश्वर गर्ग को पार्टी ने टिकट दे दिया। इससे पति पत्नी में विवाद बढ़ने लगा। दोनों एक दूसरे पर आरोप लगाने लगे। अंत में 21 जनवरी 2019 को दोनों के बीच इतना विवाद हुआ कि मिलना भी बंद हो गया। करीब तीन साल बाद अंत में पति बाबूलाल ने पारिवारिक न्यायालय जालोर में वैवाहिक सम्बन्ध विच्छेद के लिए प्रार्थना पत्र दाखिल किया, जिसके बाद न्यायालय ने अमृता मेघवाल को कई नोटिस भेजकर उपस्थित होने को कहा। लेकिन अमृता मेघवाल न्यायालय में उपस्थित नहीं हुईं। जिस पर पारिवारिक न्यायालय ने 4 मई 2023 को वैवाहिक सम्बन्ध विच्छेद का फैसला बाबूलाल के पक्ष में दे दिया। अमृता मेघवाल इस अवधि अपनी बेटी के साथ जयपुर व दिल्ली रहने लगी।

Advertisement
दूरियां होने के बाद कई बार अमृता जालोर आईं पर घर नहीं

अमृता मेघवाल व बाबूलाल के बीच दूरियां बढ़ने के बाद अमृता स्वयं कई बार जालोर आईं, लेकिन रामदेव कॉलोनी स्थित बाबूलाल के घर नहीं गई थी, इस घर में बाबूलाल अकेले ही रहते हैं और रविवार को वे बाहर थे घर बंद था। इस घर के पड़ोस में बाबूलाल के भाई का भी घर है, जहां उसके पिता व रिश्तेदार रहते हैं। बताया जा रहा है कि रविवार 7 जुलाई 2024 की शाम को अचानक दो अन्य औरतों के साथ अमृता मेघवाल रामदेव कॉलोनी के घर पहुंची और उसका दरवाजा खोलने का प्रयास किया। इसकी खटखट की आवाज सुनकर काकाई ससुर शिवलाल व ससुर हेमाराम ने इसका घर का ताला तोड़ने का विरोध किया तो दोनों के बीच कहासुनी भी हुई। अब दोनों पक्षों की ओर से थाने में रिपोर्ट दी गई है। कुछ सीसीटीवी फुटेज भी सामने आए हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जयपुर में हमले की सच्चाई नहीं आई सामने

विधायक कार्यकाल के बाद से अमृता मेघवाल जयपुर शिफ्ट हो गई थीं, उसके बाद कई बार विवाद सामने आए। एक बार जयपुर में एक पार्क में अमृता मेघवाल की गाड़ी पर कुछ युवकों द्वारा हमला करने का प्रयास का मामला भी अमृता ने दर्ज कराया, लेकिन हमलावर कौन थे उसका पता अभी तक नहीं लग पाया है। उसकी सच्चाई सामने नहीं आई है।

Advertisement

Related posts

भाजपा के दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में दमन भाजपा के पदाधिकारियों ने भी हिस्सा लिया

Admin

जालोर : ईडी का विरोध करने आए श्रम मंत्री “झूठ का कल्याण” कर गए

ddtnews

भांडवपुर महातीर्थ में उल्लास और उमंग के साथ हुए जाजम के चढ़ावे

ddtnews

जालोर : आहोर थानाधिकारी सीआई गिरधरसिंह को सर्वोत्तम पुलिस सेवा चिन्ह से किया सम्मानित

ddtnews

66वीं राज्य स्तरीय छात्रा एथलेटिक्स प्रतियोगिता का शुभारंभ 🏃‍♀️

ddtnews

Leave a Comment