DDT News
अपराधजालोर

पुणे से एमबीए करने वाले राजेन्द्र मालवीय को शेयर बाजार में घाटा हुआ तो परिवार से 6 लाख वसूलने के लिए रची खुद के अपहरण की घटना, इधर किसी ने फर्जी पुलिस अधिकारी बनकर पिता से हड़प लिए 5 हजार

  • जालोर के राजेन्द्र मालवीय की अपहरण की घटना का एसपी ने किया पर्दाफाश

दिलीप डूडी, जालोर. जालोर कोतवाली थाने में पिछले दिनों एक युवक के अपहरण की दर्ज घटना का जालोर पुलिस ने गुरुवार को पर्दाफाश कर लिया है। इस मामले में आरोपी स्वयं ने ही इस घटना को रचा था, इसलिए पुलिस ने युवक को दस्तयाब करने के बाद गिरफ्तार कर लिया है। जालोर जिला पुलिस अधीक्षक ज्ञानचन्द्र यादव ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता कर बताया कि जालोर के साईं विहार निवासी रतनलाल मालवीय लोहार के पुत्र राजेन्द्र मालवीय का किसी अज्ञात द्वारा अपहरण कर फिरौती मांगने की घटना कोतवाली में दर्ज हुई थी। जिसमें बताया था कि राजेन्द्र ग्रेनाइट पत्थर की साइनिंग के लिए बटियां तैयार करता है, उसका नमूना प्राप्त करने के लिए किसी अज्ञात ने उसका अपहरण कर लिया है और राजेंद्र के मोबाइल से उसके पिता को मैसेज कर छह लाख रुपए की फिरौती की मांग कर रहा है। एसपी यादव ने इस घटना को गम्भीरता से लेते हुए टीम गठित कर तफ्तीश शुरू की, तीन दिन बाद युवक को दस्तयाब कर लिया, प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि स्वयं राजेन्द्र ने ही घटना रची और पिता से पैसे वसूलने के लिए मैसेज करता था, वह मोटरसाइकिल पर खुद घूमता रहा और पुलिस को गुमराह करता रहा। जालोर पुलिस ने सिरोही, बालोतरा, उदयपुर पुलिस का सहयोग लेते हुए अंत में रणकपुर रोड सादड़ी से दस्तयाब कर लिया।

इसलिए रची खुद के अपहरण की साजिश

एसपी ने बताया कि राजेन्द्र ने पुणे से एमबीए कर रखी है। तकनीकी रूप से होशियार भी है। यहाँ ग्रेनाइट पत्थरों की पॉलिश करने की बट्टी बनाता है। इसमें इसका काम भी अच्छा चलता है। राजेन्द्र इसके साथ शेयर मार्केट व गेमिंग में भी पैसे लगाता है। पिछले कुछ समय में राजेन्द्र को शेयर बाजार में करीब साढ़े दस लाख रुपए का घाटा हो गया। इससे वह परेशान रहने लगा। घाटे की पूर्ति करने के लिए खुद ने एक बैंक से करीब चार लाख का लोन भी ले लिया, लेकिन शेष छह लाख कम पड़ रहे थे। इसके लिए उसने पत्नी से भी सहयोग मांगा, लेकिन पिता से छिपकर काम करना चाह रहा था। अंत में उसे पैसे की प्राप्ति के लिए खुद ही अपहरण की घटना रची और पिता से छह लाख रुपए लेने के लिए खुद ही मोटरसाइकिल लेकर भाग गया और पिता को मैसेज किया कि फार्मूला जानने के लिए उसका किसी ने अपहरण कर लिया है और वो छह लाख मांग रहे हैं। पुलिस ने शुरुआती तफ्तीश करने के दौरान ही शक होने पर टीम गठित कर उसकी तलाश की, अब तीन दिन बाद उसे दस्तयाब कर लिया। साथ ही पुलिस को गुमराह कर अपराध करने पर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

Advertisement
पुलिस को इसलिए हुआ शक

एसपी ज्ञानचन्द्र यादव ने बताया कि एएसपी रामेश्वरलाल एवं वृत्ताधिकारी गौतम जैन के सुपरविजन में जालोर थानाधिकारी जसवन्तसिह राजपुरोहित के नेतृत्व में गठित अलग-अलग 10 पुलिस टीमों का गठन किया गया। दस्तयाब व्यक्ति राजेन्द्र ने पुलिस को बताया कि उसने शेयर बाजार में फयुचर एंड आंप्सन में पैसे लगाये, जिसमें उसके दिसम्बर 2023 से जून 2024 तक करीब 10,50,000 रुपए का नुकसान हुआ। जिसकी भरपाई करने के लिए उसने 4,50,000 रूपये का एक्सीस बैंक से ऑनलाइन लोन लिया तथा शेष 6,00,000 रूपये की वसूली के लिए स्वयं के अपहरण की योजना बनाकर दिनाक 17 जून 2024 को घर से अपनी मोटरसाईकिल लेकर अपना मोबाईल फोन बन्द करके सिरोही गया तथा वहां अपने फोन से अपने पिता रतनलाल को स्वयं के अपहरण होने तथा फिरौती 6 लाख रूपये की मांग करने और फिरौती नहीं देने पर बेटे को जान से मारने का मैसेज कर फोन पुनः बन्द कर दिया। उसके बाद सिरोही, हरजी, बालोतरा, पचपदरा, साण्डेराव, रानी व सादडी घूमता रहा, जहां से पुलिस ने उसे 20 जून शाम को राजेन्द्र को रणकपुर रोड सादडी से स्वय की मोटरसाईकिल सहित दस्तयाब किया गया।

राजेन्द्र मालवीय को दस्तयाब करने के पश्चात उससे गहनता से अनुसंधान किया जाकर राजेन्द्र को गलत सूचना देकर गुमराह करने, अज्ञात व्यक्तियों द्वारा स्वयं का अपहरण किया जाकर 6 लाख रूपये की मांग किये जाने का अपराध प्रमाणित होने से गिरफ्तार किया गया। पुलिस द्वारा राजेन्द्र मालवीय के परिवारजनों व पत्नि पर निगरानी रखी गई, पुलिस को पत्नि के मोबाईल चेट राजेन्द्र द्वारा पैसौ की मांग करने की जानकारी सामने आई। इन सभी तथ्यों के आधार पर पुलिस युवक तक पहुंचने में कामयाब हुई।

Advertisement
इधर, पिता से फर्जी पुलिस ने वसूल लिए 5 हजार रुपए

राजेन्द्र के अपहरण की घटना में पुलिस की टीमें तलाश में लगी रही, इसी दौरान किसी अज्ञात ने फर्जी पुलिस अधिकारी बनकर राजेन्द्र के पिता रतनलाल से 5 हजार रुपये वसूल लिए। बाद में पता चला कि उसके साथ साइबर ठगी हुई है।

इनका कहना है…

युवक राजेन्द्र ने स्वयं अपहरण की घटना रची, जिस कारण उसे दस्तयाब कर गिरफ्तार किया गया है। वह शेयर बाजार में करीब साढ़े दस लाख रुपए घाटा खाने के बाद पिता से राशि वसूलने के लिए इसने घटना रची। पुलिस को गुमराह करने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया है, उचित कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement
  • ज्ञानचन्द्र यादव, जिला पुलिस अधीक्षक, जालोर

Related posts

सिविल सेवा में जाने के इच्छुक प्रतिभाओं को प्रकल्प जैन संस्था करेगी सहयोग- कुमारपाल मेहता

ddtnews

कांग्रेस सेवादल राष्ट्रीय स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में शामिल हुए जालोर के पदाधिकारी

ddtnews

गदर-2 और सूर्या की शूटिंग कर रहे सनी देओल: उदयपुर में लव, इमोशनल और एक्शन सीन शूट हुए, रवि किशन सहित पूरी टीम दिखी साथ में

Admin

मारवाड़ की माटी वीरता और गोसेवा के लिए प्रसिद्ध – राव

ddtnews

जालोर में अरावली होम्स के आवंटियों को फ्लैट सुपुर्दगी का कार्य शुरू, विशेष छूट का भी दे रहे है फायदा

ddtnews

कांग्रेस प्रत्याशी वैभव गहलोत ने जालोर और आहोर के गांवों में किया जनसंपर्क

ddtnews

Leave a Comment