DDT News
जालोरहेल्थ

नर्स दिवस से पहले शुरू हुआ नर्सेज सप्ताह, होगी कई प्रतियोगिताएं

जालोर. राजकीय नर्सिंग महाविद्यालय में सोमवार 6 मई से प्रशिक्षणार्थियों के मध्य विभिन्न स्वास्थ्य विषयों पर भाषण,वाद-विवाद,निबंध लेखन प्रतियोगिता के साथ नर्सेज सप्ताह के आयोजन का आगाज किया गया। प्राचार्य डॉ पवन ओझा ने अपने उद्बोधन में प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि इस वर्ष के अंतर्राष्ट्रीय नर्सिंग सप्ताह की थीम “हमारी नर्सें, हमारा भविष्य, देखभाल की आर्थिक शक्ति” है, जो स्वास्थ्य देखभाल वितरण और अर्थव्यवस्था में नर्सों की महत्वपूर्ण भूमिका को उजागर करती है।इस महोत्सव को मनाने के लिए पूरे सप्ताह चलने वाले पोस्टर-मॉडल प्रतियोगिता, मेहंदी/रंगोली/फेस पेंटिंग/कैंडल लाईटिंग सेरेमनी,नाइटेंगल शपथ कार्यक्रम,स्वास्थ्य मुद्दो पर कार्यशालाएं,जागरूकता रैली,मैराथन और विशाल रक्तदान शिविर सहित विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजनों की योजना बनाई गई है।

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस प्रत्येक वर्ष 12 मई को मनाया जाता है और इंटरनेशनल कौंसिल ऑफ़ नर्सिंग द्वारा एक थीम चुनी जाती है -इस वर्ष की थीम हैं “हमारी नर्सें ..हमारा भविष्य..देखभाल की आर्थिक शक्ति“। जिसका अर्थ हैं कि स्वास्थ्य देखभाल की रीढ़ होने के बावजूद,नर्सिंग को अक्सर वित्तीय बाधाओं और सामाजिक अवमूल्यन का सामना करना पड़ता है।हमारे व्यापक विषय हमारी नर्सिंग सेवाओं को जारी रखते हुए। हमारे भविष्य एवं नीतिगत कार्यवाही के लिए, आईसीएन की अवधारणाओं को फिर से आकार देने के उद्देश्य से देखभाल की आर्थिक शक्ति पर आईएनडी 2024 ने ध्यान केंद्रित करने के लिए इस थीम को चुना हैं कि कैसे नर्सिंग में रणनीतिक निवेश काफी आर्थिक और सामाजिक लाभ ला सकता है।

Advertisement

हमारा मानना है कि अब वर्तमान परिप्रेक्ष्य में बदलाव का समय आ गया है।हमने बार-बार देखा है कि कैसे वित्तीय संकट अक्सर स्वास्थ्य देखभाल में बजटीय प्रतिबंधों का कारण बनते हैं, आमतौर पर नर्सिंग सेवाओं की कीमत पर। यह न्यूनीकरणवादी दृष्टिकोण उस पर्याप्त और अक्सर कम महत्व दिए गए आर्थिक मूल्य को नजरअंदाज करता है जो नर्सिंग समग्र रूप से स्वास्थ्य देखभाल और समाज में योगदान देता है। एसे समय में नर्सिंग क्षेत्र में निवेश की महती आवश्यकता है।कोविड-19 महामारी से सीखे गए सबक से सीखते हुए और संघर्षों, जलवायु संकट और वित्तीय अस्थिरता के कारण दुनिया भर की आबादी के स्वास्थ्य के लिए बढ़ते खतरे को पहचानते हुए, हमारा मानना है कि परिप्रेक्ष्य और नीति में बदलाव की वकालत करने का यह सही समय है।सप्ताह का 12 मई को नर्सिंग दिवस मनाने के साथ समापन होगा।कार्यक्रम के दौरान नर्सिंग फैकल्टी मोहन सिंह गुर्जर,मनीष सोलंकी,मनोज कुमार,किशोर कुमार,भूपेन्द्र कुमार समेत कई प्रशिक्षणार्थी मौजूद रहे।

Advertisement

Related posts

जालोर : राजकीय गांधी स्कूल के मुस्तफा ने 95.5% फीसदी अंक प्राप्त किए

ddtnews

भक्ति प्रदर्शन का नहीं, जीवन परिवर्तन का आधार बने

ddtnews

RBSE result : विज्ञान वर्ग में जालोर जिलेभर में केवल एक विद्यार्थी तृतीय श्रेणी से पास हुआ

ddtnews

अभियान को लेकर लोगों ने जताई खुशी

ddtnews

राज्य सरकार जालोर में बनाएगी मेडिकल कॉलेज, आहोर को नगरपालिका बनाया और भीनमाल में बैठेंग एडीएम

ddtnews

जानिए… जालोर में यहां बनेगी जिले की पहली फोरलेन सड़क

ddtnews

Leave a Comment