DDT News
जालोरसामाजिक गतिविधि

दो दिन से घूम रहे माता-पिता के अपने बच्चे के लिए रेयर रक्तदाता सुरेश बना मददगार

जालोर. मुसीबत में जो काम आए, वो ही सच्चा साथी…, यह बात दो वर्षीय बालक के माता-पिता ने कही, जिन्हें अपने बच्चे के रेयर रक्त के लिए दो दिन तक चक्कर लगाने पड़े। दरअसल, दो वर्षीय बालक दिलीप के रक्त की कमी होने पर उसके माता-पिता ने प्रयास किया, लेकिन बच्चे का रक्त समूह एबी निगेटिव रेयर रक्त होने से मिलने में आसानी नहीं थी। काफी चक्कर लगाने के बाद उन्होंने जालोर डोनर ग्रुप के नितेश भटनागर से सम्पर्क किया, जिसके बाद एक सुरेश नामक युवक इस ग्रुप का मिला, जो इस परिवार की पीड़ा को कम करने में सहायक साबित हुआ।

विज्ञापन
विज्ञापन
भटनागर से मिलकर मिली राहत

जानकारी के मुताबिक जालोर के मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केंद्र (एमसीएच) में जालोर निवासी दो वर्षीय बालक को दिलीप को रक्त की कमी होने पर उसे एबी निगेटिव खून की जरूरत पड़ी। चिकित्सक ने बावड़ी निवासी अर्जुन कुमार को बताया कि उसके बच्चे के शरीर में रक्त की कमी है और हिमोग्लोबिन महज 3.6 है। उसे एमसीएच में भर्ती करवाया गया, चिकित्सकों ने उसे भर्ती किया, लेकिन एबी निगेटिव रक्त मिलना मुश्किल हो गया।

Advertisement

एबी नेगेटिव रक्त रेयर होने के कारण बच्चे के माता-पिता दो दिनों से इधर-उधर घूम रहे थे।बताया जा रहा है दुनिया में केवल पांच फीसदी से कम लोग ही रेयर रक्त वाले ही लोग होते है। इनमें से भी निगेटिव ग्रुप वाले 0.5 प्रतिशत ही होते हैं। इसी कारण इस ब्लड ग्रुप वाले व्यक्ति को ब्लड की जरूरत पड़ने पर परेशानी आती है। शहर के किसी भी ब्लड बैंक में इस ग्रुप का ब्लड उपलब्ध नहीं होता है।

विज्ञापन

बच्चे के माता-पिता ब्लड बैंक में पहुंचे, लेकिन रेयर एबी नेगेटिव ब्लड न होने पर चारों और खून के लिए हाथा जोड़ी कर रोने लगे। फिर किसी के सहारे जालोर ब्लड डोनर ग्रुप के संरक्षक नितेश भटनागर के बारे में उन्हें जानकारी मिली। उन्होंने भटनागर को कॉल किया। भटनागर रक्त उपलब्ध करवाने में हर किसी की मदद को उत्सुक रहते है। नितेश भटनागर ने रक्त मित्र एबी नेगेटिव रक्तदाता सुरेश सोनी पुत्र बगदाराम से सम्पर्क किया। जिस पर सुरेश ने रेयर रक्त दान कर बच्चे को पीड़ा से मुक्ति दिलाने में सहायक हुआ।

Advertisement
भाभी की समस्या देख बने रक्तदाता

रक्तमित्र सुरेश सोनी ने बताया कि में पहले सुई लगाने से भी बहुत डरता था परन्तु जब अपनी भाभी को प्रॉब्लम हुई तो प्रथम बार उनके लिए रक्तदान कर खुशी मिली और उसके बाद जालोर ब्लड डोनर ग्रुप टीम के साथ जुड़ गए और हर जरूरत के समय तैयार रहते है। सुरेश ने चौथी बार रक्तदान किया।

विज्ञापन
विज्ञापन

Advertisement

Related posts

गर्ग समाज का दीपावली स्नेह मिलन समारोह आयोजित

ddtnews

चौदह साल पुराने दुष्कर्म के मामले में गिरफ्तार, मंदिर में पुजारी बनकर छिपा था आरोपी

ddtnews

बच्चों की आवाज को सुने – जिला कलेक्टर

ddtnews

प्रारंभिक शिक्षा का खेलकूद पंचांग जारी, तीन समूह में होगी प्रतियोगिता, हर स्कूल की भागीदारी अनिवार्य

ddtnews

सिरे मंदिर धाम पर विश्व कल्याण को लेकर महारूद्र यज्ञ का पूर्णाहुति के साथ हुआ समापन, फले चुन्दडी में उमडी भक्तो की भीड़

ddtnews

भ्रष्टाचारी सरकार को इस बार उखाड़ फेकेंगी जनता – ओटाराम देवासी

ddtnews

Leave a Comment