DDT News
जयपुरजालोरराजनीति

बच्चों के सपने साकार करना, हम सभी का दायित्व : मुख्यमंत्री

  • लाभार्थियों ने कहा : आप प्रदेश के बच्चों के पालनहार

     

  • मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों के बैंक खातों में किए 146.74 करोड़ रुपए हस्तांतरित

     

  • जुलाई के 87.36 करोड़ रुपए और जून के 59.38 करोड़ रुपए का पहुंचाया लाभ

     

  • जालोर जिले में जुलाई के 2.50 करोड़ रुपए और जून के 1.70 करोड़ रुपए की राशि हस्तांतरित

     

जयपुर/जालोर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को प्रदेश के 5.91 लाख से अधिक पालनहार लाभार्थियों के बैंक खातों में 146.74 करोड़ रुपए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से हस्तांतरित किए। इसमें जुलाई माह के 591730 लाभार्थियों को बढ़ी हुई सहायता राशि 87.36 करोड़ रुपए और जून माह के 5,92,630 लाभार्थियों को 59.38 करोड़ रुपए की सहायता राशि दी गई।

जालोर जिला मुख्यालय पर आयोजित लाभार्थी उत्सव

गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास पर राज्य स्तरीय लाभार्थी संवाद समारोह में कहा कि विभिन्न श्रेणियों में लाभार्थियों को सहायता पहुंचाई जा रही है। सहयोग राशि बढ़ाने से लगभग 300 करोड़ रुपए का अतिरिक्त भार आएगा। उन्होंने कहा कि गत सरकार में शुरू पालनहार योजना को बंद करने के बजाय हमने सहायता राशि और श्रेणियों में बढ़ोतरी की है। इससे परिवार में ही बच्चों की समुचित देखरेख, संरक्षण एवं शिक्षा सुनिश्चित हो रही है। ये बच्चे बड़े होकर प्रदेश और देश की उन्नति में अपना अहम योगदान देंगे। उन्होंने कहा कि यह योजना एक अभिनव पहल है। इसे और मजबूत बना रहे है। हम सभी की जिम्मेदारी है कि एक भी पात्र बच्चा योजना से वंचित नहीं रहे।

Advertisement

एक भी पात्र बच्चा वंचित नहीं रहे

मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों से संवाद में कहा कि बच्चों के उज्ज्वल भविष्य और सुनहरे सपनों को साकार करने की हम सभी की जिम्मेदारी है। राज्य सरकार इसमें पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि बच्चों को महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में पढ़ाए। मुख्यमंत्री अनुप्रति निःशुल्क कोचिंग योजना में तैयारी कराकर उन्हें आगे बढ़ाए। राज्य सरकार द्वारा राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस योजना के जरिए होनहार बच्चों को विदेश में अध्ययन करने के लिए भेजा जा रहा है।

Advertisement

सामाजिक सुरक्षा कानून लागू करें प्रधानमंत्री

गहलोत ने कहा कि पूर्ववर्ती केंद्र सरकार ने खाद्य, रोजगार, शिक्षा और सूचना का अधिकार पूरे देश में एक समान लागू किया। उसी तरह हमने राजस्थान में सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत न्यूनतम एक हजार रुपए का प्रावधान किया है। अब केंद्र सरकार भी पूरे देश में सामाजिक सुरक्षा कानून लागू कर जरूरतमंदों को आर्थिक सम्बल प्रदान करें। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के अधिकार (आरटीएच) से प्रदेशवासियों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी ली है। इसे और मजबूत करेंगे।

Advertisement

मुख्यमंत्री का लाभार्थियों से संवाद

मुख्यमंत्री ने विभिन्न जिलों के बच्चों से उनके भविष्य को लेकर संवाद किया। मुख्यमंत्री ने सभी बच्चों की भावनाओं पर उन्हें प्रोत्साहित कर कहा कि आप पढ़ाई करें। आपके सपनों को पूरा करने में सरकार कोई कमी नहीं रखेगी। वहीं, लाभार्थियों ने जनकल्याणकारी योजनाओं और पालनहार योजना में बढ़ी हुई राशि सीधे खातों में पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। गहलोत ने कहा कि महंगाई राहत कैम्पों में भी पंजीयन कराकर योजनाओं का लाभ लें।

Advertisement
विज्ञापन

बच्चों के सपने, मुख्यमंत्री का आशीर्वाद

  •  ‘पालनहार योजना से प्राप्त राशि से काफी मदद मिली है। जेईई की तैयारी कर रही हूं, इंजीनियर बनना है।‘- नेहा, चूरू
  •  ‘मुझे आईएएस बनना है। आपके प्रोत्साहन से हर बच्चे को संबल मिला है। यह निरंतर मिलता रहेगा।‘- आयुषी, हनुमानगढ़
  • ‘कक्षा 9वीं में पढ़ रही हूं। बड़े होकर जज बनकर लोगों की सेवा करनी है।‘- आरूषी केडिया, सवाई माधोपुर

पालनहारों ने कहा, योजना से मिली राहत

Advertisement
  • ‘तीन बच्चों की पढ़ाई और लालन-पोषण में मदद मिली है। मुझे स्कूटी का लाभ भी मिला। इसके लिए आपका धन्यवाद।‘- असलम हुसैन, कोटा
  • ‘योजना में सहायता राशि में बढ़ोतरी से राहत मिली है। इससे बच्चों का भविष्य उज्ज्वल बनेगा। जनकल्याणकारी योजनाओं से हर वर्ग लाभान्वित हो रहा है।‘- कविता मीणा, दौसा
  • ‘पालनहार सहित सभी योजनाओं से हम लाभान्वित हुए है। बच्चों को आपसे प्रोत्साहन मिलता है। वे भी आपकी तरह जनसेवा करना चाहते है।‘- गंगा बाई उदयपुर, मंजू देवी, सीकर

समारोह में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि यह योजना नाममात्र की नहीं, बल्कि इसके जरिए लगभग 6 लाख बच्चों का लालन-पोषण किया जा रहा है। राज्य सरकार ने इस वर्ग की पीड़ा को समझते हुए सहायता राशि में बढ़ोतरी की है।

विज्ञापन

समारोह में स्वायत्त शासन, नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री शांति कुमार धारीवाल, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. महेश जोशी, सार्वजनिक निर्माण मंत्री भजन लाल जाटव, युवा मामले एवं खेल राज्य मंत्री अशोक चांदना, राजस्थान राज्य केशकला बोर्ड के अध्यक्ष महेन्द्र गहलोत, राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल, ओबीसी वित्त एवं विकास कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष पवन गोदारा, विधायक गंगा देवी, आलोक बेनीवाल, नरेंद्र बुड़ानिया, सामाजिक कार्यकर्ता निखिल डे, मुख्य सचिव उषा शर्मा, पालनहार के लाभार्थी सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों से लाभार्थी, जनप्रतिनिधि और जिला प्रशासनिक अधिकारी जुड़े।

Advertisement

पालनहार योजना की पात्र श्रेणियां

अनाथ बच्चे, न्यायिक प्रक्रिया से मृत्यु दण्ड, आजीवन कारावास प्राप्त माता-पिता के बच्चे, पेंशन प्राप्त कर रही विधवा माता के बच्चे, पुनर्विवाहित विधवा माता के बच्चे, एच.आई.वी.एड्स से पीड़ित माता-पिता के बच्चे, कुष्ठ रोग से पीड़ित माता-पिता के बच्चे, नाता जाने वाली माता के बच्चे, विशेष योग्यजन माता-पिता के बच्चे, पेंशन प्राप्त कर रही तलाकशुदा अथवा परित्यक्ता महिला के बच्चे, सिलिकोसिस पीड़ित माता-पिता के बच्चे।

Advertisement

अनुदान राशि का प्रावधान

अनाथ श्रेणी के 0-6 आयु वर्ग के बच्चों के लिए 1500 रुपए प्रतिमाह और 6-18 आयु वर्ग तक के बच्चों के लिए 2500 रुपये प्रतिमाह। राज्य सरकार की बजट घोषणा 2023-24 के अनुसार पालनहार योजना में अनाथ श्रेणी के अतिरिक्त अन्य श्रेणी के 0 से 6 वर्ष उम्र के बच्चों के लिए 750 रुपए प्रतिमाह और 6 से 18 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के लिए 1500 रुपए प्रतिमाह सहायता राशि दी गई। साथ ही कपड़े, स्वेटर, जूते आदि के लिए हर वर्ष 2000 रुपये अतिरिक्त दिए जाएंगे। (विधवा और नाता श्रेणी को छोड़कर)। इस योजना की सबसे जरूरी शर्त बच्चों का आंगनबाड़ी या विद्यालय जाना अनिवार्य है।

Advertisement

जालोर जिला मुख्यालय व सांचौर मुख्यालय पर आयोजित हुआ लाभार्थी उत्सव

जालोर जिले में लाभार्थियों को जुलाई के 2.50 करोड़ रुपए और जून के 1.70 करोड़ रुपए की राशि हस्तांतरित
लाभार्थी उत्सव के दौरान जालोर जिले में पालनहार योजना के तहत जालोर जिले में जून माह में 0-6 वर्ष आयु वर्ग के 1054 व 6-18 वर्ष आयु वर्ग के 16099 सहित कुल 17153 बच्चों के 9450 पालनहारों के खाते में 1 करोड़ 70 लाख 67 हजार 500 रुपयों तथा जुलाई माह में 0-6 वर्ष आयु वर्ग के 1054 व 6-18 वर्ष आयु वर्ग के 15994 सहित कुल 17048 बच्चों के 9403 पालनहारों के खाते में 2 करोड़ 50 लाख 72 हजार 500 रुपयों की राशि डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से हस्तांतरित की गई।
सांचौर मुख्यालय पर आयोजित लाभार्थी उत्सव में श्रम राज्य मंत्री सुखराम विश्नोई ने भाग लिया। वही जालोर जिला मुख्यालय पर आयोजित लाभार्थी उत्सव में जिला कलक्टर निशान्त जैन, प्रशिक्षु आईएएस दिव्यांश सिंह, पूर्व विधायक रामलाल मेघवाल, पूर्व जिला प्रमुख मंजू मेघवाल, राज्य भूदान बोर्ड के सदस्य नैनसिंह राजपुरोहित, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी कंवरलाल सोनी, जालोर उपखण्ड अधिकारी दौलतराम चौधरी, सवाराम पटेल, पूर्व प्रधान भंवरलाल मेघवाल, आमसिंह परिहार, विरेन्द्र जोशी, भोमाराम मेघवाल, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक सुभाषचन्द्र मणि, महिला एवं बाल विकास विभाग के उप निदेशक अशोक विश्नोई सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी-कार्मिक सहित बड़ी संख्या में पालनहार योजना के लाभार्थी उपस्थित रहे।

Advertisement

लाभार्थी उत्सव में उपस्थित पालनहार योजना के लाभार्थी बच्चों को नोट बुक, पेन व चॉकलेट वितरित किए गए। वही सांचौर में आयोजित लाभार्थी उत्सव में सांचौर विशेषाधिकारी पूजा कुमारी पार्थ, चितलवाना उपखण्ड अधिकारी हनुमानाराम, विकास अधिकारी मूलेन्द्र सिंह, नगरपालिका सांचौर अध्यक्ष नरेश सेठ सहित विभिन्न जनप्रतिनिधि, अधिकारी व बड़ी संख्या में पालनहार योजना के लाभार्थी उपस्थित रहे।

Advertisement

Related posts

राजस्थान में राजनीतिक जमीन तलाश रहे गौरव वल्लभ बोले- गहलोत की योजनाएं बेहतर, मोदी और शाह को राजस्थान सरकार से ट्यूशन लेने की जरूरत

ddtnews

कांग्रेस नगराध्यक्ष भुट्टो ने जलदाय विभाग के अधिकारियों पर लगाये गम्भीर आरोप, कलेक्टर को शिकायत की

ddtnews

जालोर सांसद पटेल ने मंत्री गडकरी को पत्र भेजकर बारिश में टूटे नेशनल हाइवे का निर्माण करवाने की मांग की

ddtnews

थांवला, चवरछा व उण में शिविर का आयोजन, लोगों को दी महंगाई से राहत

ddtnews

बच्चों को मोबाइल के उपयोग से सम्भवत: दूर रखें

ddtnews

Leave a Comment